प्रभु का आवास

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

“प्रभु का आवास


prabhu

ईश्वर को हम ढूँढ़ने निकले,

मन्दिर मस्जिद गुरूद्वारे में |

मिले न भगवन कहीं भी हमको,

ढूंढा चर्च और चौबारे में ||


धर्मग्रंथों में ढूंढा उनको,

बहुत सा पूजा पाठ किया |

मस्जिद में नमाज़ पढ़ी,

अरदास किया उपवास किया ||


इतना सब कुछ करके फिर भी,

कोई न साक्षात्कार हुआ ,

पुजारी मौलवी ग्रन्थी पादरी ,

सबसे मिलना बेकार हुआ ||


थक हार कर घर को लौटे,

सदगुरु मिले थे राहों में |

बात पते की पायी उनसे,

बसते प्रभु हृदयस्थल में ||


प्राणी का सम्मान जो करता,

उसके ह्रदय है प्रभु का वास |

सत्संग त्याग दुर्जन संग पाये,

उसके हिय शैतान निवास ||

रचयिता ,

अम्बरीष श्रीवास्तववास्तुशिल्प अभियंता
91,
सिविल लाइंस सीतापुर , उत्तर प्रदेश , इंडिया ( भारतवर्ष ),

ईमेल: kaviambarish@gmail.com

, मोबाइल : +919415047020

……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

Liked it here?
Why not try sites on the blogroll...

%d bloggers like this: